रविवार, 16 जुलाई 2017

पवित्र गुफा में बाबा गुप्तेश्वर नाथ के दर्शन के साथ एक अद्भुत रोमांचक यात्रा (अंतिम भाग )

इस श्रृंखला की पिछली तीन पोस्ट से इतना तो आप जान ही गए होंगे , कि  बाबा गुप्तेश्वर के धाम तक पहुंचना इतना आसान नहीं है।  अगर आपने पिछली पोस्ट नहीं पढ़ी तो नीचे  लिंक दे रहा हूँ , क्लिक करके पढ़ लीजिये तभी असली आनंद आएगा।

 अगर पढ़ चुके है , तो बहुत अच्छी बात है , बम भोले करते हुए आगे बढ़ते है।
                                            तो अँधेरी रात में जंगल के बीच  से कठिनतम चढ़ाई करके हम लोग बोल बम का नारा  लगते हुए आएगी बढे।  कई बाधा  आई पर जब बाबा का सहारा हो तो फिर मुश्किल कैसी  ! अब सुबह हो चुकी थी , बिना पेट खाली  किये हम लोग आगे बढ़ रहे थे , सुबह की ठंडी और सुहावनी बयार की मस्ती में बड़े आराम से चल रहे थे।  पर ये आराम ज्यादा देर नहीं टिका।  अब सूरज नारायण धीरे धीरे उग्र होने लगे थे , और शरीर पसीना छोड़ने लगा था।  रस्ते में कई बरसाती झरने मिले तो ऐसे ही एक झरने पर कुछ लोगो ने नहाया।  अब लगातार चलना मुश्किल हो रहा था , तो सुस्ता -सुस्ता के आगे बढ़ रहे थे।  सुबह से नींबू  वाली चाय के अलावा कुछ नहीं लिया था।  अब सुबह होने से हमें लौटने  वाले बम  भी मिलने लगे , जिन्हे देख कर लगने लगा कि  हम करीब आ गए।  अब हम पहाड़ की कठिन उतराई  उतर चुके थे।  उतरते ही कुछ दुकाने मिली  जहाँ हमने हम लोग नींबू  वाली चाय पीने  रुके या इसी बहाने सुस्ताने लगे।  सबसे बुरी हालत मेरी और संजय सिंह जी की हो चली थी।  हमारी शारीरिक मेहनत की आदत लगभग ख़त्म सी हो गयी है  इसलिए यहां इतना चलना अखर रहा था।  जबकि बाकि लोग मजे से चल रहे थे।  खैर चाय पीकर सब चलने तैयार हो गए , हम दोनों भी मजबूरन चल पड़े।  मन तो बहुत चलने को कर रहा था , मगर तन तो साथ दे। 
                                                           आगे दुर्गावती नदी मिली , ये नदी ऊपर से बहुत खूबसूरत चमकती हुई चाँदी  की लकीर सी दिख रही थी, लेकिन आस आने पर तेज प्रवाहनी थी , इसका कारन एक दिन पहले हुई बारिश थी।  स्थानीय लोगों ने या कहे नक्सलियों ने  सीमेंट के पिलर बनाकर लकड़ियों के द्वारा एक अस्थायी पुल  का निर्माण किया था , जो तेज बारिश में नदी का पानी बढ़ने पर बह जाता है।   अभी तक पुरे रस्ते में हमें दर्शनार्थी ो खूब मिले मगर उनके लिए प्रशासन की तरफ से सुविधा के नाम पर हाथ सलाई शून्य ही मिला।  लेकिन इतनी कठिनाई के बाद भी लोग श्रद्धा और भक्ति के बल पर बाबा के दर्शन करने आते है।  हैरानी की बात इतनी कठिनाई में महिलाएं , बच्चे और बुजुर्ग भी आते है।  खैर अपने जीवन में पहली बार लकड़ी के इस तरह के पुल को देखा था।  इस सेतु के निर्माणकर्ताओं ने बाकायदा टोल बसूलने का इंतजाम कर रखा था।  प्रति व्यक्ति मात्र  दस रुपये।  कुछ लोगों ने बिना पैसे दिए ही नदी की  धार में से नदी पार करने की कोशिश की , मगर धार तेज होने से अंततोगत्वा दस रूपया खर्च कर नदी आर करने में ही भलाई समझी।  हम भी इस रोमांचक जुगाड़ू पुल  से नदी पार की।
                                                        अब चढ़ाई- उतराई की जगह समतल जमीन ने ले ली थी।  पर जंगल साथ ही था।  कुछ किलोमीटर चलने पर पगडण्डी से कुछ चौड़ा रास्ता मिला , जिसमे ट्रेक्टर के चक्के  के निशान भी मिले।  राहगीरों से पूछने पर पता चला कि  ये चेनारी वाला रास्ता है।  बरसात होने के पहले स्थानीय लोग ट्रेक्टर से अपनी दुकानों के सामान और रसद सामग्री ले आते है।  और बरसात होते ही दुर्गावती नदी चेनारी वाला रास्ता बंद कर देती है।  हालाँकि महाशिवरात्रि के समय दोनों रास्ते  खुले होते है।  सावन और फागुन के अलावा बाबा के दर्शन बंद रहते है।  फागुन में आसान रास्ते  से तो आया जा सकता है, मगर प्रकृति की इतनी सुंदरता छूट जाती है। आप कुछ देर के लिए अपनी आंखे बंद कर कल्पना कीजिये, कि आप हरे भरे पहाड़ से गुजर रहे है , आसपास के पेड़-पौधे बारिश से नहाकर आपका स्वागत कर रहे।  चलते-चलते पहाड़ो की चोटियों से झरने फूट  पड़े , उनका झर-झर  का कोलाहल शोर नहीं पैदा कर रहा बल्कि संगीत की मधुर तान लग रहा है , इस संगीत में साथ देने पक्षियों की चहचहाट भी  है।  ऊपर नीले  आसमान में रुई केफाहे से सफ़ेद बादल माहौल को चार चाँद लगा रहे है।  सोचिये जब ये सब कल्पना में ही इतना प्यारा लग रहा है , तो वास्तविकता में कितना अच्छा लगेगा।  तो इन नजारो का लुत्फ़ उठाये हुए हमारा कारवां आगे बढ़ रहा था।  लौट रहे लोगो की एक बात बड़ी अच्छी लगी , कि  जिससे भी पूछो - कितनी दूर और चलना है ?  तो पिछले चार-पांच किलोमीटर से हमें एक ही जवाब मिल रहा था।  बस ज्यादा नहीं एक-दो किलोमीटर ! तो वापिसी कर रहे श्रद्धालु जाने वालों का मनोबल नहीं तोडना चाहते।  हम भी एक-दो किलोमीटर की आस में जब एक-दो किलोमीटर आगे बढ़ते और पूछते तो वही ढाक के तीन पात ! 
                        खैर अब सचमुच बाबा के नजदीक पहुँच गए , क्योंकि अब  दुकानें  ज्यादा मात्रा में दिखने लगी थी।  लोग भी भीड़ के रूप में दिखने लगे थे।  बोल बम का नारा गूंज रहा था।  लेकिन दुकानों तक पहुंचने  दुर्गावती नदी फिर रास्ता रोके बह रही थी , ये नदी तीन चार बार रास्ते  में मिली।  हालाँकि यहां ज्यादा गहरी नहीं थी , तो हमने भी दूसरो  की देखादेखी में पैदल ही नदी पार  की।  नदी के ठन्डे पानी से थकान  भरे पैरों  को बड़ा आराम मिला।  कई लोग यही स्नान कर रहे थे , और यही से जल भर रहे थे।  तो कुछ लोग जंगल के दूसरी तरफ प्लास्टिक के लौटे लेकर जा रहे थे।  एक दुकान पर पूछने पर पता चला।  कि  लोग शीतल कुंड से जल भरकर ला रहे है, और वही स्नान भी कर रहे है।  शीतलकुण्ड की दुरी 100 मीटर जंगल के अंदर बताई।  पर  हम  हिम्मत हार चुके थे।  फिर सोचा जब यहां तक  चुके है, तो 100 मीटर और चल लेते है।  
                                                                               एक दुकान से प्लास्टिक के छोटे छोटे लोटे ख़रीदे ताकि जल भरकर बाबा को चढ़ाया जा सके।  अब मन से चल पड़े क्यूंकि तन तो थक चुका था।  शीतलकुण्ड के नाम से ऐसा लग रहा था , कि  कोई कुंड या पोखर होगा , जिसे शीतलकुण्ड कहा जाता है।  लेकिन वहां पहुंचकर नए नज़ारे देखने मिले।  सामने ऊँचे पहाड़ से दो झरने से पानी रहा था।  नजारा देखकर सारी थकान उड़न छू हो गयी।  पैरों में पंख लग गए।   पहले जहाँ 100 मीटर लम्बी दूरी लग रही अब  दूरी ख़त्म हो गयी।  वास्तव में इस नज़ारे की हमें उम्मीद  ही नहीं थी  ये  हमारे लिए बोनस पॉइंट था  संजय जी  हमे शीतलकुण्ड का जिक्र कर रहे , पर हमारे दिमाग में कुंड ही था , झरना नहीं।  अब हम सब तैयार हो गए जल प्रपात स्नान के लिए।  हमने दो बार में तीन-तीन लोग करके स्नान किया।  तीन लोग स्नान करते बाकी तीन लोग सामान की रखवाली करते हुए फोटो खींच रहे थे।  ऐसी जगहों पर सामान का सुरक्षा करना जरुरी होती , वरना सावधानी हटी और दुर्घटना घटी।  अब जहाँ भारी मन से आये थे , वहां से मन भर ही नहीं रहा था।  हम लोग लगभग डेढ़ घंटे नहाये।  फिर जल लेकर चल पड़े बाबा की गुफा ऒर...  अब थकान गायब हो चुकी थी।
                                                अस्थायी दुकानों से होते हुए हम बाबा गुप्तेश्वरनाथ की रहस्यमयी  गुफा की बढ़ चले।  बाबा गुप्तेश्वर नाथ की गुफा के पहले बाहर एक चबूतरा बनाकर मंदिर जैसा नया  निर्माण किया गया है।  उसके बाद अंदर पूरी गुफा प्राकृतिक है।  गुफा के अंदर जनरेटर के माध्यम से बल्ब जलाकर रौशनी की व्यवस्था की जाती है।  अंदर जाने पर ऑक्सीजन की कमी होने लगती है , इसलिए आपातकालीन व्यवस्था के लिए ऑक्सीजन सिलिंडर की भी व्यवस्था भी की गयी है।  हम लोग भी गुफा के अंदर बाबा का जयकारा लगाकर प्रवेश कर गए।  अंदर  जगह की कमी थी , और बल्ब जलने के कारण  गर्मी भी लग रही थी।  जैसे जैसे गुफा के अंदर जा रहे थे , वैसे ही दम घूंट सा रहा था।  इससे पता चलता है, ऑक्सीजन वाकई में कम हो रही थी।  सबकी साँस अपने आप ही तेज चलने लगी थी।  खैर हम अंदर बाबा गुप्तेश्वरनाथ के समीप पहुँच ही गए।  वहां बाबा का प्राकृतिक शिवलिंग था।  इसका आकार सामान्य शिवलिंग जैसे नहीं था।  शिवलिंग के पास एक दाढ़ी वाले साधु बाबा भी बैठे थे।  आश्चर्य इस बात का कि  सामान्य व्यक्तियों का जहाँ थोड़ी देर में ही दम घुंटने लगा , वहां ये साधु बाबा इतनी देर से कैसे बैठे होंगे ? खैर लोग दम घुटने के कारन जल्दी ही प्लास्टिक वाले लौटे सहित जल चढाकर वापिस लौट रहे थे  शिवलिंग के आसपास बहुत से प्लास्टिक के लौटे पड़े हुए थे।  ये देखकर मुझे बड़ा बुरा लगा।  एक तरफ हम ईश्वर के दर्शन के लिए इतने कष्ट सहनकर यहां तक आये और दूसरी तरफ ईश्वर  के पास उन गन्दगी कर रहे है।  कितनी ओछी मानसिकता है ? हम भी बाबा को जल चढ़ाकर लौटे और साथ अपने प्लास्टिक के लौटे भी वापिस लाये। बाहर वो लौटे दुकानदार को वापिस कर दिए। 
                                                                                 अब दर्शन करने के बाद भोजन की इच्छा जोर मार रही थी।  तो एक अच्छी सी दुकान देखकर डेरा जमाया।  यहां पूड़ी तौलकर मिल रही थी।  अतः हम लोगों ने डेढ़ किलोग्राम पूड़ी और सब्जी के साथ जलेबी का भी आर्डर दिया।  भरपेट भोजन के बाद कुछ देर आराम किया और निकल पड़े वापिसी के लिए।  लौटना भी उसी रस्ते से था, जिससे गए थे।  हाँ ईश्वर ने इतना साथ दिया कि  बारिश होती रही तो ठन्डे ठन्डे मौसम में भीगते हुए वापिस लौटे।  बीच बीच में जब धुप निकल आती थी , तो पसीने में भीग जाते थे।  आखिरी उतराई उतरते समय पैर  कांपने लगे थे , लगा कि कहीं लड़खड़ाकर गिर न जाऊ , मगर बाबा की कृपा से सभी लोग सुरक्षित पनारी पहुँच गए।  इस तरह अपने ही गृह राज्य में इतनी शानदार घुमक्क्ड़ी कभी नहीं की थी।  इसके लिए विशेष धन्यवाद के पात्र संजय कुमार सिंह जी है।  हम लोगो को दोनों ओर (पनारी-गुप्तेश्वर धाम-पनारी ) से आने-जाने में कुल समय 12 घंटे लगे।  हालाँकि संजय जी हमेशा इससे दोगुने समय में गए , मगर इस बार तेज चलने वालों के साथ फंस गए थे।  इस यात्रा में सबसे ज्यादा हालत हम दोनों की ही ख़राब थी , क्योंकि चलने की आदत ख़त्म जो  हो  गयी है ।  
गुप्तेश्वर धाम कब जाया जा सकता है -  सिर्फ साल में दो बार महाशिवरात्रि (फ़रवरी में ) के समय और सावन                                      (जुलाई-अगस्त )के पूरे  महीने में ही जाया जा सकता है।  बाकि समय यात्रा बंद रहती है।  
कैसे जाये -  
                 वायु मार्ग - नजदीकी हवाई अड्डे पटना और वाराणसी है।  
               रेल मार्ग -सासाराम मुगलसराय -गया रेल लाइन में एक जंक्शन है।  जहाँ से दिल्ली - हावड़ा रूट की                  गाड़िया गुजरती है।  
             सड़क मार्ग - सासाराम राष्ट्रिय राजमार्ग क्रमांक 2 ( जीटी रोड ) पर स्थित है।  सासाराम से आप टेम्पो ,                   शेयरिंग टैक्सी करके 40 किमी  दूर पनारी तक जा सकते है।  वहां से पैदल ट्रैक करके जान पड़ेगा।  
क्यों जाये ? -  यदि  आपको धार्मिक, प्राकृतिक , साहसिक यात्राओं में थोड़ी भी रूचि है , तो आपको गुप्तेश्वर                          धाम अवश्य जाना चाहिए।  
शीतलकुण्ड जल प्रपात का आनंद 

गुफा का प्रवेश द्वार 

जलप्रपात का एक मनमोहक नजारा 
दूर से दीखता जल प्रपात 

बाबा के भक्त बोल बम के नारे के साथ 
गुफा के अंदर का दृश्य 

गुफा के अंदर 

बाबा गुप्तेश्वर नाथ का प्राकृतिक शिवलिंग 




पार्किंग का एक दृश्य
आपातकालीन व्यवस्था के तहत ऑक्सीजन सिलिंडर भी रखे थे।  

गुफा में प्रवेश करने के पहले 
वापिसी भी आसान न थी 

बाबा का आशीर्वाद और ऐसे दृश्यों के लिए जो कष्ट सही वो कम थे। 
 कुछ फोटोग्राफ हमारे मित्र अभ्यानंद सिन्हा जी ने अपने मित्र वीरेंद्र कुमार जी से लेकर इस पोस्ट के लिए दिए ,  उनका हार्दिक धन्यवाद।  बाबा गुप्तेश्वर नाथ सब कृपा करे।

मंगलवार, 11 जुलाई 2017

रहस्मयी गुफा वाले गुप्तेश्वर धाम की यात्रा (भाग 3)

पता नहीं क्यों आज एक साल हो गया , लेकिन कई बार चाह कर भी बाबा गुप्तेश्वर नाथ की यात्रा और दर्शन लिख नहीं पाया  इसकी शुरुआत पिछले साल ही कर दी थी , लेकिन शुरूआती दो भाग लिखने के बाद जब तीसरा  बाबा गुप्तेश्वर नाथ के बारे में बताने की बारी आती , तो कुछ न कुछ विघ्न आ जाते थे।  जैसे बाबा गुप्तेश्वर नाथ से लौटते समय ही झरने में नहाते समय मोबाइल से फोटो लेने के कारण मोबाइल में पानी  चला गया , और मोबाइल ख़राब हो गया।  अच्छा ये रहा कि मोबाइल ख़राब होने के पहले ही मैंने फोटो संजय सिंह जी और अनुज मोनू को फोटो शेयर कर दिए थे।  बाद में मोबाइल  होने से वो फोटो गायब हो गए।  और भी कई बाधाएं  आती रही और बाबा गुप्तेश्वर नाथ जी गुप्त ही बने रहे।  खैर ठीक एक साल बाद सावन के महीने में पहले सोमवार को ये पोस्ट लिखने बैठा हूँ  . इससे पहले की राम कहानी आप इन लिंक को क्लिक करके पढ़ सकते है।
अगर आप इस यात्रा को शुरू से पढ़ना चाहते है , तो इन लिंक्स पर क्लिक करके पढ़ सकते है।  (वैसे मजा तो तभी आएगा जब आप इस यात्रा को शुरू से ही पढ़े।  आगे आपकी की मर्जी।
गुप्ता बाबा की यात्रा की शुरुआत (पहला भाग )
माँ ताराचंडी और महाभारतकालीन शिव जी (दूसरा भाग )

अपनी यात्रा पर ले चलने के पहले आपको गुप्तेश्वर धाम के बारे में कुछ जानकारी बता दूँ

बिहार के रोहतास जिले (सासाराम) के गुप्तेश्वर धाम (गुप्ता धाम) गुफा में स्थित शिवलिंग की महिमा का बखान आदिकाल व पौराणिक है। मान्यता है कि इस गुफा में जलाभिषेक करने से भक्तों की सभी मन्नतें, मनोकामनाएं  पूरीं हो जाती हैं।
पुराणों में वर्णित भगवान शंकर व भस्मासुर से जुड़ी कथा को जीवंत रखे हुए ऐतिहासिक गुप्तेश्वरनाथ महादेव का गुफा मंदिर आज भी रहस्यमय बना हुआ है। देवघर के बाबाधाम की तरह गुप्तेश्वरनाथ यानी गुप्ताधाम बेहद श्रद्धा व शक्ति संपन्न है।
यहां रामायण कालीन धार्मिक नगरी बक्सर (जहां राम-लक्ष्मण को विश्वामित्र यज्ञ रक्षा के लिए ले गए थे) से पवित्र गंगाजल लेकर शिवलिंग पर चढ़ाने की परंपरा है। रोहतास में अवस्थित विंध्य पर्वत श्रृख्ला की कैमूर पहाड़ी के जंगलों से घिरे गुप्ताधाम गुफा की प्राचीनता के बारे में कई पुरानी सूचनाएं हैं। हालांकि, इसकी बनावट को देखकर पुरातत्वविद् अब तक यह तय नहीं कर पाए हैं कि यह गुफा मानव निर्मित है या प्राकृतिक।
कई पुस्तकों के लेखक इतिहासकार श्याम सुंदर तिवारी कहते हैं कि गुफा के नाचघर व घुड़दौड़ मैदान के बगल में स्थित पाताल गंगा के पास दीवार पर उत्कीर्ण शिलालेख, जिसे श्रद्धालु ब्रह्मा के लेख के नाम से जानते हैं, को पढ़ने से संभव है, इस गुफा के कई रहस्य खुल जाएं।
गुफा में गहन अंधेरा होता है, बिना कृत्रिम प्रकाश के भीतर जाना संभव नहीं है। पहाड़ी पर स्थित इस पवित्र गुफा का द्वार 18 फीट चौड़ा एवं 12 फीट ऊंचा मेहराबनुमा है। गुफा में लगभग 363 फीट अंदर जाने पर बहुत बड़ा गड्ढा है, जिसमें सालभर पानी रहता है। इसे पातालगंगा कहा जाता है।
गुफा के अंदर प्राचीन काल के दुर्लभ शैलचित्र आज भी मौजूद हैं। इसके कुछ आगे जाने के बाद शिवलिंग के दर्शन होते हैं। गुफा के अंदर अवस्थित प्राकृतिक शिवलिंग पर हमेशा ऊपर से पानी टपकता है। इस पानी को श्रद्धालु प्रसाद के रूप में ग्रहण करते हैं।

शिव ने यहीं ली थी भस्मासुर से बचने के लिए शरण

इस स्थान पर सावन के महीने के अलावा सरस्वती पूजा और महाशिवरात्रि के मौके पर मेला लगता है। जनश्रृतियों के मुताबिक, कैलाश पर्वत पर मां पार्वती के साथ विराजमान भगवान शिव ने जब भस्मासुर की तपस्या से खुश होकर उसे सिर पर हाथ रखते ही भस्म करने का वरदान दिया था।
भस्मासुर मां पार्वती के सौंदर्य पर मोहित होकर शिव से मिले वरदान की परीक्षा लेने के लिए उन्हीं के सिर पर हाथ रखने के लिए दौड़ा। वहां से भागकर शंकरजी यहां की गुफा के गुप्त स्थान में छुप गए।
भगवान विष्णु से शिव की यह विवशता देखी नहीं गई और उन्होंने मोहिनी रूप धारण कर भस्मासुर का नाश किया। उसके बाद गुफा के अंदर छुपे भोले बाहर निकले।
सासाराम के वरिष्ठ पत्रकार विनोद तिवारी कहते हैं, शाहाबाद गजेटियर में दर्ज फ्रांसिस बुकानन नामक अंग्रेज विद्वान की टिप्पणियों के अनुसार, गुफा में जलने के कारण उसका आधा हिस्सा काला होने के सबूत आज भी देखने को मिलते हैं।
सावन में एक महीने तक बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और नेपाल से हजारों शिवभक्त यहां आकर जलाभिषेक करते हैं। बक्सर से गंगाजल लेकर गुप्ता धाम पहुंचने वाले भक्तों का तांता लगा रहता है।
(साभार -वेब दुनिया और अन्य स्रोत ) 
अब अपनी रामकहानी शुरू 
तो अभी तक आपने पढ़ा था , कि हम लोग सासाराम और ताराचंडी देवी के दर्शन के बाद सासाराम रेलवे स्टेशन के माइक्रो वेब के ऑफिस में संजय कुमार सिंह जी का इंतजार कर रहे थे, तभी बड़ी जोर की बारिश होने लगी थी।  रात के लगभग 10 बजे संजय जी आये और हम लोग निकल पड़े अपनी फोर्ड फिगो कार से सासाराम से बाबा गुप्तेश्वर नाथ धाम की  ओर।  शहर के बाहर होने पर संजय  ने मुझे अपनी गाड़ी के  ऊपर जल रही नीली बत्ती बंद करने का आग्रह किया,  क्यूंकि अब हम नक्सली क्षेत्र की ओर जा रहे थे।  और नीली बत्ती उस क्षेत्र में खतरनाक हो  सकती थी।  इधर रात गहरा रही थी, और मेरा रोमांच भी बढ़ता जा रहा था।  भीगी रात में गांव की सड़क पर पुराने सदाबहार गानों के साथ ही हमारी कार आगे बढ़ रही थी।  एक तो गांवों में लोग जल्दी सो जाते है , और बारिश हो जाने के कारण  हमें गांव सन्नाटे से भरे ही मिल रहे थे, और इन सन्नाटों को चीर कर हमारी कार आगे बढ़ रही थी। मैं खुद कार ड्राइव कर रहा था , मेरे बगल में बैठकर संजय जी मार्गदर्शक की भूमिका में थे।  बारिश हो जाने से सड़क के आस पास के खेत पानी से लबालब भरे थे , चूँकि ये धान  का क्षेत्र था, इसलिए ये पानी धान के लिए बढ़िया था।  रास्ते  में भी कई जगह नाले भरे मिले , जिन्हे अपनी कार से पार करना पड़ा।  कई बार रास्तें को लेकर भ्रम की स्थिति निर्मित हुई , लेकिन संजय जी के आत्मविश्वास पर विश्वास कर बम भोले कर निकल पड़े।  हालाँकि कई जगह संजय जी भी रात  होने के कारण  डगमगाए मगर इतनी रात को कोई बताने वाला भी नहीं था।  बीच में एकाध टेम्पो वाले मिले जो सासाराम से बम लेकर पनियारी (गुप्तेश्वर धाम का बेस कैंप ) जा रहे।  इन टेम्पो को देखकर हमारी भी जान में जान आई , और हम भी तेजी से बोल बम का नारा  लगाकर निकल पड़े।  भोले के भरोसे हम रात के लगभग एक बजे पनारी  पहुंचे। चेनारी वाला रास्ता बरसात की वजह से अभी बंद रहता है।  इसलिये पनारी से दो पहाड़ पार कर लम्बे रस्ते से पैदल ही जाना पड़ता है।  चेनारी वाले मार्ग से ट्रेक्टर आदि से लोग शिवरात्रि के समय जाते है।   यहाँ हमें चहल-पहल मिली।  लोग प्रसाद और रसद की दुकानों में सो रहे थे , कुछ बरसाती नालें में नहा रहे थे , तो कुछ झोला उठाकर बाबा गुप्तेश्वर से मिलने निकल पड़े थे।  हमने भी गाड़ी पार्किंग में लगाई , और साठ रूपये की पार्किंग की रसीद कटवाई।  कहते है , यहां सारी व्यवस्था नक्सली ही करते है।  हमें भी यहां बिहार सरकार का कोई नुमाइंदा नजर नहीं आया।  मैंने सबसे पहले अपनी कार से नीली बत्ती निकालकर गाड़ी के अंदर रखी।
                                                                            अब संजय जी की सलाह थी , कि कुछ देर आराम किया जाये फिर सुबह चार बजे के लगभग चढ़ाई शुरू की जाये।  जबकि मेरा मानना  था, कि अगर सोये तो खोये।  फिर सुबह धूप भी हो जाएगी , तो चढ़ाई मुश्किल होगी।  अभी आलस  भी नहीं है।  सबने मेरे विचार का समर्थन किया , और ऊपर पहाड़ी पर कुछ टोर्च की रौशनी  भी दिख रही थी , अतः हमारा भी मनोबल बढ़ा।  फिर सबने अपने कपडे निकालकर गाड़ी में रखे और बोल बम वाले गेरुए वस्त्र धारण कर बम बन गए।  पास ही एक दुकान से चीन वाली टॉर्च  खरीदी और चल पड़े बाबा गुप्तेश्वर नाथ से मिलने।  दो नाले पार कर चढ़ाई शुरू हुई।  शुरुआत ही खड़ी चढ़ाई से हुई।  अँधेरे में खड़ी चढ़ाई देखकर मन डोलने लगा।  तभी हमारे पीछे से महिलाओं का एक दल चढ़ाई करते हुए निकला , जिनमे कुछ बुजुर्ग महिलाएं भी थी।  अब चूँकि खड़ी चढ़ाई थी, और रास्ता संकरा था।  इसलिए हमें महिलाओं को आगे निकलने देने के लिए खड़ा होना पड़ा।  तो टार्च की रौशनी में बुजुर्ग महिलाओं का जोश देखकर हम भी जोश में आ गए।  और बोल बम का जयकारा लगाकर तीखे-नुकीले पत्थरों के संकरे खड़ी चढ़ाई वाले रस्ते पर अँधेरे में टॉर्च  की रौशनी में आगे बढ़ने लगे।  पहले तो चढ़ाई चढ़ने में मजा आ रहा था , लेकिन एकाध किलोमीटर चढ़ने के बाद थकावट लगने लगी।  अतः  छह लोगो के दल में मैं और संजय जी सबसे पीछे हो गए।  रास्ते में जब चढ़ाई के बाद समतल मैदान आया तो कुछ आराम मिला।  हालाँकि हम मैदान में नहीं बल्कि पहाड़ के ऊपर चल रहे थे।  रास्ते में छोटे छोटे नाले और झरने मिल रहे थे।  अचानक एक बांध मिला जिसके आगे रास्ता ही समझ नहीं आ रहा था।  फिर कुछ देर इंतजार करने पर पीछे से कुछ और लोग आये तब उनके पीछे पीछे हम भी आगे बढे।  तभी एक काला  सा बड़े आकार वाला बिच्छू दिखा , जिसे पहले रास्ता पार करने दिया।  उसके बाद हम आगे बढ़े।  तीन-चार किलोमीटर चलने के बाद कुछ चाय-नाश्ते की दुकानें  मिली।  हालाँकि दूध न मिलने के कारण यहाँ नींबू  वाली चाय (ब्लैक टी ) मिल रही थी।  यहां चाय पीकर कुछ देर सुस्ताये और फिर चल दिए। आगे बढ़ने पर एक तालाबनुमा संरचना मिली , जिसके किनारे सीमेंट से पक्के बने थे।  सीमेंट की उस पट्टी पर से हम लोग पार कर आगे बढे।  लग रहा था, कि ये रात ख़त्म ही नहीं होगी।   जैसे -जैसे आगे बढ़ते जा रहे थे,  वैसे-वैसे शरीर पर  थकान और नींद हावी हो रही थी।  खैर आगे एक जगह चट्टानों पर मैं पसर ही गया।  मुझे पसरा देखकर बाकी  लोग भी मजबूरन वही रुक गए।  खुले आसमान की रजाई और नीचे  चट्टानों का बिछौना पाकर तुरंत नींद आ गयी।
                                                                              लेकिन एक घण्टे भी न हुए थे , और आसमान से पानी टपकने लगा।  अब जागना मज़बूरी थी।  हालाँकि अब सुबह का उजाला होने लगा था।  ठंडी ठंडी बयार चल रही , पानी की बूंदे  गाल सहला रही थी।  झोला उठाकर चल पड़े।  आगे दूसरे पहाड़ और उनके बीच की खाई स्पष्ट दिख रही थी।  लेकिन खाई में रुई  के फाहे से बादल  जब टहलते नजर आये तो मन झूम उठा।  मैंने दौड़कर उनकी फोटो खींची।  सुबह इतनी शानदार होगी सोचा न था।  आगे फिर एक चाय की दुकान पर नींबू  वाली सबने चाय पी  . चाय की दुकान के आगे लाल मुंह के बन्दर और काले मुंह वाले लंगूर एक साथ झुण्ड में बैठे थे।  सामान्यतः लंगूर और बन्दर एक साथ नहीं मिलते।  खैर दुकानदार ने इनसे सतर्क रहने को कहा था।  हमारे सामने ही एक व्यक्ति से बिस्कुट छीन कर बन्दर भागे थे।  हम लोगो  ने इनसे बचने के लिए अपने हाथों में लकड़ियां उठा ली।   इन बंदरों और लंगूरों के बच्चे अपनी अपनी माँओं  के सीने  से चिपके हुए थे।  वैसे बच्चे किसी भी जीव  के हो ,बहुत प्यारे लगते है।  मैं भी तो अपना तीन माह का बच्चा घर छोड़कर आया था। सुबह के सुहावने मौसम से थकान  दूर हो गयी गयी थी , इसलिए कदम तेजी से आगे बढ़ रहे थे।  अब सीधी मगर खतरनाक उतराई  चालू हो गयी थी।  सामने सफ़ेद बादल  मस्ती में घूम रहे  थे।  मैंने सोचा अब उतरने के बाद  ठौर मिल जायेगा।  मगर मोहि कहाँ विश्राम...असली रोमांच  बाकी था।  
रास्ते में इस तरह मिनरल वाटर का आनंद लेते चले ।

ऊंची नीची है डगरिया...

सीधी और खतरनाक उतराई


बांये से संजय जी , चाचा जी , अखिलेश जी , मोनू, टिंकू और मैं 

बम भोले

रास्ते के मनमोहक नजारे
बन्दर और लंगूर एक साथ 

आवारा बादल
अगली पोस्ट में दर्शन कीजिये बाबा गुप्तेश्वर नाथ के और एक ऐसे नजारे के जो हम लोगो के लिए भी सरप्राइज था।  बम भोले 

शनिवार, 8 जुलाई 2017

तिरंगे के तले , घुमक्कड़ यार मिले

अभी एक मेरी दिल्ली यात्रा में दो भाग पढ़ चुके है।  (जिन्होंने नहीं पढ़ा वो दी गयी लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते है -  लाल किले की ओर 
छतरपुर में बहन जी के घर जाकर दिल्ली की दिवाली का लुत्फ़ उठाया  मैंने पहली बार किसी पर्व को दिल्ली जैसे महानगर में मनाया ।  रात में चारो तरफ आतिशबाजी हो रही थी , पटाखों का शोर था।   अमावस्या की घनघोर अँधेरी रात्रि में तारों की जगह धुंए का गुबार दिख रहा था।  खैर खुली हवा में साँस लेने आदी  हम जल्द ही इस दमघोंटू माहौल से आज़ादी पाने के लिए सो गए।  दिल्ली आगमन से ही आ रहे बुखार ने  फिर आगोश में ले लिया। अमित तिवारी जी तो अपने बच्चों को लेकर राजस्थान भ्रमण पर निकल गए ताकि दिल्ली के इस प्रदुषण से बचा जा सके।  

अगली सुबह यानि 31  अक्टूबर 2016 को नींद सोनीपत निवासी घुमक्कड़ मित्र  संजय कौशिक जी के कॉल ने अलार्म का काम किया और हम सोकर उठे।  अपने दिल्ली और आसपास  के घुमक्कड़  दोस्तों से मिलने की प्लानिंग शुरू।  अब मिलने के लिए किस जगह इकठ्ठा हुआ जाये , इस को लेकर चर्चा चल रही थी।  क्यूंकि कुछ लोग सोनीपत , गुरुग्राम से आने वाले थे , कुछ नॉएडा , ग़ज़ियाबाद से तो कुछ दिल्ली से ही आ रहे थे।  दिवाली के कारण ऑटो, कैब कम ही उपलब्ध थी , अतः मेट्रो ही एक सहारा थी।  इसलिए ऐसी जगह चुननी  थी  जो सबको पास पड़े।  खैर जगह फाइनल की गयी , कनॉट प्लेस का सेंट्रल पार्क।  खैर मैं पहुँच गया , छतरपुर मेट्रो स्टेशन , जहाँ सोनीपत से संजय कौशिक जी , गुरुग्राम से महेश सेमवाल जी तो करावल नगर से अनिल दीक्षित जी अपनी इनोवा से आने वाले थे।  मिलने की उत्सुकता इतनी ज्यादा थी, कि समय से पहले ही पहुंच गया था।  अब इंतजार की घड़ियां काटे न कटे।  अंततः प्रतीक्षा समाप्त हुई , और वो आये  .... इन सभी से पहली बार मिल रहा था  . देखते ही गले लग गए .. जैसे कबके बिछड़े .. यहाँ  आके मिले ।  फिर सेमवाल जी के सुझाव पर सरोजनी नगर की ओर इनोवा से निकल पड़े , वहां के प्रसिद्द पकोड़े खाने के लिए। पकोड़े वाकई स्वादिष्ट थे।  यहां लहसुन, प्याज ,अदरक के अलावा भी कई तरह के पकोड़े मिल रहे थे।   पकोड़ो की दुकान पर जब चर्चा हुई , कि लग ही नहीं रहा , हम पहली बार मिल रहे।  ये सुनकर कौशिक को पहली बार मिलने का आभास हुआ , तो फिर से गले मिले।  खैर कई तरह की बातें हुई।  कौशिक जी और अनिल भाई को अपनी ड्यूटी पर जाना था।  इसलिए सेमवाल जी और मैं वही रुक गया और अनिल भाई अपनी इनोवा में कौशिक जी को लेकर ड्यूटी पर निकल लिए।  मैं और सेमवाल जी मेट्रो  से राजीव चौक स्टेशन उतरे , फिर सेंट्रल पार्क पहुंचे .. लेकिन मायूसी हाथ लगी।  आज बुधवार के दिन पार्क मेंटेनस के लिए  रहता है।  तभी बीनू कुकरेती उर्फ़ विजय कुकरेती उर्फ़ रमता जोगी जी का कॉल आया कि वो भी कुछ देर में सेंट्रल पार्क पहुँच रहे है।  तो थोड़ा इंतजार किया , कि छरहरे शरीर वाले गढ़वाली पंडित रमता जोगी जी आ ही गए।  अब भरत-मिलाप के बाद निर्णय लिया गया , कि पालिका बाजार के पार्क पर डेरा जमाया जाये।
अब हम पास ही बने पालिका बाजार के ऊपर बने पार्क में पहुँच गए।  पालिका बाजार भारत का पहला भूमिगत बाजार है।  फ़िलहाल ये बाजार अपने सस्ते सामानों के लिए विख्यात है।  इसका एक कारण  चोरी का माल यहां बिकना भी है।  खैर मेरे लिए अभी अपने घुमक्कड़ मित्रो से मिलना जरुरी था , इसलिए पालिका बाजार से नजरे दो-चार न हो सकी।  पालिका बाजार में डेरा ज़माने के बाद एक -एक करके कमल कुमार सिंह , रुपेश शर्मा जी  (ग्रेटर नॉएडा से ) , सचिन त्यागी जी ( गाजियाबाद से ) आ गए।  सेमवाल जी  ने पालिका बाजार से ही एक गोल टावर नुमा ईमारत को बताते हुए बताया , कि ये भारत का पहला घूमता हुआ रेस्टोरेंट है , फ़िलहाल इसमें कम ही रौनक है।  अब जब सब लोग इकट्ठे हो ही गए तो चर्चाएं घुमक्कड़ी की चलने लगी। मन बड़ा ही प्रसन्न था , आखिर एक दूसरे से अनजान लोग जब किसी आभासी माध्यम (सोशल मीडिया ) से परिचित हो तो ख़ुशी कुछ और ही होती है। रुपेश जी अपने इलाके की प्रसिद्द बालूशाही लेकर आये थे, सचिन की अलग मिठाई लेकर आये थे।  बीनू भाई अपने सोनी के कैमरे से इस यादगार पल को कैद कर रहे थे।  हमारी पृष्ठभूमि में सेंट्रल पार्क का विशालकाय राष्ट्रिय ध्वज तिरंगा माहौल को एक अलग ही रंग भर रहा था।  सबसे मिलने पर किसी को भी नहीं लग रहा था , कि हम पहली बार मिल रहे है।  मेरे मन में तो अलग ही ख़ुशी थी, कि पहले भी दिल्ली आया तो रिश्तेदारों से मिला।  अबकी बार नए रिश्ते बने।  मिलने के बाद बिछड़ना भी तो पड़ता , आखिरकार फिर से जो मिलना है।    खैर चर्चाओं के बाद सब अपने अपने धाम के लिए निकल पड़े .... 
अब हम तीन लोग बचे मैं  मेरी इस दिल्ली यात्रा में छाये रहे कमल कुमार जी और बीनू भाई।  तो कमल भाई अपनी आदतानुसार एक बार में हमे ले गए जो उनके एक पहाड़ी मित्र का था।  फिर कमल भाई  जो खमीर उठे जौ के रस में सराबोर हुए तो महफ़िल उठने का नाम ही ले।  जैसे तैसे बीनू भाई और मैंने उन्हें वहां से बाहर  लेकर आये तो ऑटो से रात में मुझे इंडिया गेट और सचिवालय की सैर कराने ले आये  . रस्ते भर उनकी गजल गायकी सुनते आये  . बड़ी मुश्किल से मुझे छतरपुर छोड़ा , फिर बहन के यहाँ खाना खाया , और शादीपुर के लिए निकला , क्यूंकि सुबह साढ़े छह बजे नई  दिल्ली स्टेशन से  झाँसी के लिए शताब्दी एक्सप्रेस पकड़नी थी।  सुबह ध्रुव के साथ जब शादीपुर मेट्रो स्टेशन पहुंचा तो इतनी सुबह कोई मेट्रो नहीं थी।  मजबूरन एक ऑटो किया और स्टेशन पहुंचकर शताब्दी एक्सप्रेस में सवार  हो गया  अपने साथ कई अनूठी यादें लेकर ....... 
हाँ , इस यात्रा ने एक नई यात्रा का बीज बो दिया था , जहाँ एक जगह पर इससे भी ज्यादा घुमक्कड़ मित्रों को मिलना था  जानने के लिए आगे दी गयी लिंक पर क्लिक कीजिये। ........  महामिलन की पूर्वकथा ; असंभव से संभव तक
पकोड़ों का आनंद लेते हुए हम लोग 


सेंट्रल पार्क में लहराता हमारा तिरंगा 
लो पहुँच गए पालिका बाजार 

बांये से सचिन त्यागी, कमल सिंह, रुपेश शर्मा , महेश सेमवाल और मैं 



अब चलने की तैयारी 

फिर मिलेंगे चलते-चलते 

शुक्रवार, 30 जून 2017

लालकिले की रोचक तारीख और बुरे फंसे हम !


अब उसके आगे की राम कहानी सुनिए।  तो ओला कैब से हम लोग लाल किला देखने पहुँच गए।  कमल भाई टिकट लेने लाइन में लगे , मैं उनके पास ही खड़ा गपशप करने लगा।  किले में प्रवेश करने  टिकट 30 रूपये की थी, और अगर आप किले के अंदर स्थित संग्रहालय भी देखना चाहते है, तो 5 रूपये अलग से मतलब कुल 35 रूपये की टिकट हुई।  अंदर के संग्रहालय के लिए अलग से टिकट नहीं मिलती।  अब एक मजेदार वाक़्या हुआ।  एक आदमी टिकट काउंटर पर इसी बात पर  बहस  कर रहा था , कि उसे सिर्फ संग्रहालय ही देखना है , इसलिए उसे पांच रूपये की टिकट दी जाये  ! जबकि टिकट कर्मचारी उससे कह रहा था, कि संग्रहालय की अलग से टिकट नहीं मिलती साथ में किले की भी टिकट लेनी होगी।  हम भी मजे लेकर ये ड्रामा देख रहे थे।  और इसके अलावा हमारे पास कोई चारा भी नहीं था।  ड्रामे के पटाक्षेप के बाद अपनी टिकट लेकर चल पड़े लाल किले की ओर। .....
बचपन में टीवी पर स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्रता दिवस की परेड में लाल किले पर तिरंगा लहराते देखते थे,  तो तभी से मन में एक सपना पाल लिया था , कि हम भी एक न एक दिन इस लाल  के दीदार जरूर करेंगे।  वैसे इतिहास का विद्यार्थी जरूर रहा हूँ , लेकिन आज लाल किले का इतिहास लिखने का मन नहीं हो रहा है।  सो अगर आपको लाल किले का इतिहास जानना है , तो हमारे मित्र प्रदीप चौहान जी की पोस्ट पर क्लिक करके पढ़ सकते है।  ये किला जहाँ मुगलों की शान और शौकत का गवाह रहा है , तो इसने मुगलों के साथ ही इस देश की दुर्दशा भी देखी  है।  मुग़ल बादशाह मुहम्मद शाह रंगीला (1721- 1748 ) के कार्यकाल में जब ईरानी शासक नादिरशाह ने 1739 ईस्वी में दिल्ली पर हमला कर कत्ले आम किया तो  कई एकड़ के हरम वाले  रंगीला की रूह कांप  उठी थी।  और नादिर शाह अपने साथ इसी लाल किले से कोहिनूर हीरा और तख्ते ताउस ( रत्न जड़ित मयूर सिंहासन ) भी ले गया। वही एक और मुग़ल बादशाह अकबर द्वितीय (1806 -1836 )  जिनकी पेंशन अंग्रेजो ने बंद कर दी थी।  लाल किले के भीतर मुगलिया  सल्तनत की  इतनी बुरी हालात हो गए थे , कि शाही रसोई में तीन दिन तक चूल्हा नहीं जला और शहजादियों को लाल किले के बाहर आकर खाना मांगना पड़ा।  बादशाह की पेंशन की अर्जी लेकर राममोहन राय ( महान समाज सुधारक ) को राजा की पदवी देकर इंग्लैंड भेजा गया।  वो अलग बात है , कि रजक राम मोहन राय जी इंग्लैंड से लौटे ही नहीं और आज उनकी कब्र इंग्लैंड में ही बनी है।   इतना ही नहीं आखिरी मुग़ल बादशाह  बहादुर शाह ज़फर के सामने तो अंग्रेजो ने उनके ही बेटों के सिर काट कर थाल में ही परोस दिए थे। और ज़फर को देशनिकाला देकर रंगून भेज दिया , जहाँ आज भी उस बदनसीब बादशाह की रूह अपनी वतन की मिट्टी की चाहत  लेकर भटक रही है।

 लगता नहीं है जी मेरा उजड़े दयार में,

किस की बनी है आलम-ए-नापायदार में।


बुलबुल को बागबां से न सैयाद से गिला,
किस्मत में कैद लिखी थी फसल-ए-बहार में।

कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें,
इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दाग़दार में।

एक शाख गुल पे बैठ के बुलबुल है शादमान,
कांटे बिछा दिए हैं दिल-ए-लाल-ए-ज़ार में।

उम्र-ए-दराज़ माँग के लाये थे चार दिन,
दो आरज़ू में कट गये, दो इन्तेज़ार में।

दिन ज़िन्दगी खत्म हुए शाम हो गई,
फैला के पांव सोएंगे कुंज-ए-मज़ार में।

कितना है बदनसीब 'ज़फर' दफ्न के लिए,
दो गज़ ज़मीन भी न मिली कू-ए-यार में॥

  - बहादुर शाह ज़फर 



खास महल 

लाल किले में सूर्यास्त 
                                              
टिकट के लिए लगी कतार 
लाहौरी गेट के सामने 
मीना बाजार 
शानदार पच्चीकारी का नमूना 
चलिए अब इतिहास  की गलियों से निकल कर वर्तमान में आते है , हमने लाल किले के लाहौरी गेट से प्रवेश किया।  जबकि दूसरा गेट जो दिल्ली गेट के नाम से जाना जाता है ,उसे निकास द्वार के  प्रयोग किया जाता है।  किले के अंदर प्रवेश करते ही एक बाजार मिलता मिलता है।  जिसे एक समय मीना बाजार के नाम से जाना जाता था।  आज भी यहां रास्ते के दोनों तरफ दुकाने लगी हुई है।  दुकानों से गुजर कर हम छत्ता चौक पहुंचे  फिर हमे गॉइड भी मिले , तो जैसा कि पहले ही बताया , आज समय की कमी थी , क्यूंकि आज दीपावली थी, और पूजा के पहले बहन जी के यहां पहुंचना था।  खैर नौबत खाने की ओर बढे , यहां कभी वादकगण वाद्ययंत्र बजाया करते थे।  फिलहाल हमारे सामने ऐसी नौबत नहीं आई।  आगे बढ़ने पर दीवाने आम और अन्य इमारते  मिलती है।  दीवाने आम का प्रयोग मुग़ल बादशाहो द्वारा आम जनता से मिलने , उनकी  समस्याओं को जानने , सुनने और उनका समाधान करने के लिए होता था।  शाहजहां दरबार में बैठने के लिए तख्ते ताउस  नामक  आलीशान सिंहासन  का प्रयोग करता था।  शाहजहां था , बड़ा ही शौक़ीन बादशाह उसने तख़्त में भी नगीने जड़ा रखे थे।  दीवाने खास का प्रयोग खास लोगो के लिए दरबार लगता था।  तो हम खास तो इतने थे नहीं , इसलिए दीवाने खास से खाकसार रुखसत हुए। इसके बाद रंग महल , मुमताज महल , खास महल देखने के बाद जल्दी से पांच रूपये वाले टिकट वाले संग्रहालय की ओर भागे।  क्यूंकि बंद होने का समय होने वाला था।  संग्रहालय में मुगलो के ज़माने के हथियार , पोशाक , वस्तुओं आदि रखी  थी।  संग्रहालय बंद करने के कारण  सबको बाहर कर रहे थे, जब लोग अपने मन से नहीं निकले तो अंदर की लाइट ही बंद कर दी , अब देखो अँधेरे ! मजबूरन सबको बाहर आना पड़ा। किले के अंदर ही वॉर मेमोरियल संग्रहालय है , जिसमे भारतीय वीरों से जुडी वस्तुएं राखी है।  दीपावली की छुट्टी की वजह से वो बंद था।  हम  जब बाहर  आये तो लाल किले की प्राचीर पर शान से तिरंगा लहरा रहा था।  परेड की याद आ गयी।  कुछ देर निहारने के बाद कुछ फोटो खींची।  और चल दिए दिल्ली गेट से किले के बाहर की ओर।  दिल्ली गेट के दोनों तरह दो विशालकाय पत्थर के हाथी खड़े थे।  बाहर जब सड़क पर पहुंचे तो न कोई ऑटो रिक्शा , न कोई कैब और न कोई अन्य साधन ! दीपावली की शाम होने के कारण सब जल्दी घर के लिए निकल लिए  और हम फंस गए।  बस स्टॉप पर गए , मगर वहां पहले से ही भीड़ खड़ी अब करे तो क्या करे ? 
बहादुर शाह जफ़र की यादें 
दिल्ली दरवाजे के बाहर खड़े हाथी 
लाल किले के लाइट और साउंड शो की जानकारी 
फिर बड़ी मुश्किल से एक रिक्शा वाला मिला जो मुस्लिम होने की वजह से दीपावली के लिए  घर भागने की जल्दी में नहीं था।  उसने हम लोगों निकटम मेट्रो स्टेशन चांदनी चौक तक छोड़ा।  और हम किसी तरह दीपावली की पूजा से पहले अपने ठिकाने पर पहुंचे।  लेकिन अगले दिन कुछ ऐसी घटनाएं हमारा इंतजार कर रही थी , कि उन्हें ताउम्र भुलाया नहीं जा सकता।  
लाल किले की प्राचीर के सामने















गुरुवार, 22 जून 2017

दिलवालों की दिल्ली के दर्शन (भाग -1 )


नमस्कार मित्रों ,
पिछले साल दिवाली के समय ओरछा में अकेला ही था , श्रीमती जी मायके गयी हुई थी।  तो अब दीपावली जैसा महापर्व अकेले कैसे मनाया जाये।  घर ( बक्सर, बिहार ) जाने के लिए काम से काम एक हफ्ते की छुट्टी चाहिए।  इसलिए इस बार दिवाली के शुभ अवसर पर दिल्ली में अपनी इकलौती बहन निक्की के यहाँ जाने का ख्याल मन में आया।  इस ख्याल में दिल्ली में रहने वाले घुमक्कड़ दोस्तों से मिलने का लालच भी था।  ये सामान्य दोस्त नहीं है , इनसे जान-पहचान  इंटरनेट की दुनिया के दो सशक्त प्लेटफॉर्म फेसबुक और व्हाट्सएप्प  के माध्यम से हुई थी।  इनमे सभी आला  दर्जे के घुमक्कड़ तो थे ही , कुछ लोग ब्लॉग भी लिखते है।  इनमे से अधिकांश लोगों से इंटरनेट माध्यम से ही जुड़ा था।  वास्तव में मुलाकात का संयोग सिर्फ मनु प्रकाश त्यागी जी,  संदीप पंवार जी उर्फ़ जाटदेवता और कमल कुमार सिंह उर्फ़ नारद से ही इसलिए संभव हो पाया , क्यूंकि ये लोग ओरछा आये  थे। दिल्ली के लिए निकलने के पहले ही  मैंने व्हाट्स एप्प ग्रुप पर पहले ही घुमक्कड़ मित्रो को सूचित कर दिया था।
               अब अपने जिला अधिकारी से छुट्टी ली और निकल पड़ा दिल्ली की ओर...... झाँसी स्टेशन  से एक समय भारत की सबसे तेज ट्रैन रही  हबीबगंज ( भोपाल ) -नई दिल्ली शताब्दी एक्सप्रेस से  28  अक्टूबर की  शाम को निकल पड़ा।  चूँकि व्हाट्स एप्प ग्रुप पर भी मित्रों को अप डेट्स मिल रही थी।  दिल्ली पहुँचने के कुछ देर पहले ही प्रसिद्द घुमक्कड़ ब्लॉगर नीरज जाट जी का कॉल आया , दिल्ली में आखिरी  मेट्रो के बारे में बताया।  ( नीरज जी स्वयं दिल्ली मेट्रो में कार्यरत है।  ) लेकिन मेरी सबसे तेज ट्रैन परम्परानुसार विलम्बित होकर मुझे अंतिम मेट्रो से वंचित कर गयी।  नीरज जी ने इतनी रात को ऑटो की बजाय कैब से जाने की सलाह दी।  क्यूंकि दिल्ली के ऑटो रात के सफर के लिए सुरक्षित नहीं है।  और ये भी कहा कि अगर दिक्कत न हो तो उनके घर भी आ सकता हूँ  . खैर दिल्ली में ही रहकर संघ लोकसेवा आयोग (upsc ) की तैयारी कर रहा मेरा बड़ा साला ध्रुव तब तक नई दिल्ली स्टेशन पहुँच चुका था।  ध्रुव से मिलने के बाद मैंने नीरज जी को अपनी कुशल क्षेम बताई।  दिवाली के अवसर पर नई दिल्ली स्टेशन रौशनी से नहाया हुआ था। स्टेशन पर दिवाली और छठ  पर घर जाने वाले पूर्वांचल के  बटोही लोग भरे पड़े थे।  अब मैं और ध्रुव एक ऑटो पकड़ कर (कैब की अनुपलब्धता  कारण ) शादीपुर स्थित ध्रुव के कमरे के लिए निकल पड़े।  ऑटो वाला बिहारी ही निकला तो बोलते बतियाते कब पहुँच गए पता ही नहीं चला।  जब ऑटो के बारे आशंका  हो तो उसके बारे जाँच -परख करना ठीक होता है।  अब वर्दी वाला दिमाग तो चलेगा ही।
                                                         29 की सुबह ध्रुव के साथ मेट्रो से छतरपुर के लिए बहन निक्की से मिलने झोला उठा के चल पड़े।  सफर की थकान या दिल्ली के असर से रात में बुखार आ गया था।  इसलिए बहन के यहाँ खा-पीकर सो गया। तभी कमल जी की कॉल से नींद खुली।  उनसे मिलने की बात हुई।  सुबह से व्हाट्स एप्प पर कोई अपडेट न पाकर बाकि लोग चिंतित थे।  खैर फिर गुरुग्राम वासी अमित तिवारी जी का कॉल आया , वो बताये कि वो , डॉ श्यामसुंदर , नीरज अवस्थी जी के साथ छतरपुर मेट्रो स्टेशन आ रहे है।  कमल भाई को भी मैंने वही आने का बोला।  फिर हम लोगों की मुलाकात छतरपुर मंदिर के बाहर हुई।   उसके बाद आसपास कोई बैठने या बतियाने का उपयुक्त स्थान होने के कारण  हम लोग मेट्रो से ही गुरुग्राम पहुंचे।  वहां मेट्रो स्टेशन के बाहर अमित जी की सिफारिश पर  एक ठेले पर हम लोगों ने स्वादिष्ट लीटी-चोखा का आनंद लिया।   शाम तक हम लोग यूँ ही जल-पान करते हुए घूमते रहे।  बाकि मित्रों ने खमीर उठे हुए जौ  के रस का लुत्फ़ उठाया।  मैं इस विभागीय पेय से दूर रहा।  बातों -बातों में पता ही नहीं चला कि कब अँधेरा हो गया।  अभी तक आभासी दुनिया के मित्रों से प्रत्यक्ष मिलने पर लगा ही नहीं कि हम पहली बार मिल रहे है।  फिर सब अपनी अपनी राह पकड़ कर आशियाने की ओर चल पड़े। जाते समय डॉ श्याम सुन्दर जी ने पतंजलि के रसगुल्ले और अमित तिवारी जी ने  डेरी मिल्क का सेलिब्रेशन  पैक दिया।  छतरपुर पहुँचने पर बहन जी की प्यार भरी झिड़की की आशंका पर भांजी के प्यार ने पानी फेर दिया। इधर व्हाट्सएप्प ग्रुप पर दिल्ली और आसपास के मित्रों द्वारा मुझसे मिलने का प्रोग्राम बन रहा था।  खैर बहन जी से कुछ देर बतियाने के बाद खा-पीकर सो गया , फिर से बुखार की आगोश में।
                                  अगली सुबह यानि दीपावली का  दिन इसलिए किसी से मिलने की उम्मीद काम ही थी , तो सोचा कि आज का दिन बहन और भांजी के साथ ही आराम से रहेंगे।  परन्तु मोहि कहाँ विश्राम .. दिल्ली में हमारे अज़ीज दोस्त कमल कुमार सिंह  जी तो हमे दिल्ली दर्शन का बीड़ा प्रेम से उठाये हुए थे।  तो सुबह सुबह कॉल किया।  और हम बिना नाश्ता किये चल पड़े , मेट्रो की ओर।  आज क़ुतुब काम्प्लेक्स , रायसीना हिल्स ( इंडिया गेट, संसद भवन, राष्ट्रपति भवन, सचिवालय ), रेल म्यूजियम , लाल किला आदि देखने का कार्यक्रम था।  अब कमल भाई से हमारी मुलाकात कुतुबमीनार मेट्रो स्टेशन पर हुई।  कमल भाई की मोहब्बत भी गजब की थी , इससे पहले हम सिर्फ एक बार इस १५ अगस्त को ओरछा में  मनु प्रकाश त्यागी जी के साथ मिले। तब मैं कमल भाई को लगभग न के बराबर ही जानता था।  हाँ , ब्लॉगिंग के सुनहरे दिनों में नारद आम से लिखे इनके ब्लॉग पोस्ट्स को जरूर पढ़ा था , पर ये नहीं जनता था, कि कमल भाई ही नारद थे।  खैर जब नारद से मिल ही लिए तो नारायण-नारायण होना तय था।  अब क़ुतुब काम्प्लेक्स में सुबह का नाश्ता किया।  फिर निकल पड़े क़ुतुब मीनार के दर्शन करने के लिए ... क़ुतुब मीनार के बारे में अभी तक किताबों में ही पढ़ा था।  आज देखने का मौका मिला।  चूँकि आयोग की परीक्षाओं में इतिहास का विद्यार्थी होने के नाते क़ुतुब मीनार के बारे में बहुत कुछ पढ़ा था , जैसे क़ुतुब मीनार कुतुबुद्दीन ऐबक ने नहीं बनवाई थी , बल्कि उसने तो उस पर मुस्लिम बाना चढ़ाकर उसे क़ुतुब मीनार ( सूफी संत कुतुबुद्दीन काकी के सम्मान में ) नाम दिया।  तो  इस मीनार को देखने की रूचि इसलिए भी ज्यादा थी।  जब क़ुतुब मीनार प्रांगण में प्रवेश किया तो चारो तऱफ हिन्दू स्थापत्य के ध्वंष बिखरे  पड़े थे , और इन सबके बीच ठीक क़ुतुब मीनार के बगल में लौह स्तम्भ सीना ताने खड़ा था।  चौथी सदी में बने इस अद्भुत धातु शिल्प पर  आज का  विज्ञान  भी अचंभित है।  किसी चंद्र नामक शासक ( जिसकी साम्यता गुप्त शासक चन्द्रगुप्त द्वितीय से की जाती है।  ) ने इस स्तम्भ को बनवाया था। सदियों से  खुले में खड़े इस लौह स्तम्भ पर जंग न लगना सचमुच प्राचीन भारतीय धातु विज्ञान का चमत्कार था।  इस पर किसी प्रकार  इस्लामिक मुलम्मा ही चढ़ पाया , इसलिए यह सुरक्षित हिन्दू  बना रहा।  क़ुतुब मीनार के चारो तरफ जिस प्रकार से  हिन्दू स्थापत्य बिखरा पड़ा है , इससे यह स्वमेव ही प्रमाणित होता है , कि यह क़ुतुब मीनार बनने से पहले विष्णु स्तम्भ (जैसा कि माना जाता है , कि पृथ्वीराज चौहान ने इसे बनवाया था ) या विजय स्तम्भ रहा होगा।  इतिहास में जो कहा जाता है , कि क़ुतुब मीनार का निर्माण कुतुबुद्दीन ऐबक ने प्रारम्भ करवाया था, और इसे इल्लुत्मिश ने पूर्ण करवाया।  अब  मैंने जितना इतिहास पढ़ा है ( मैं इतिहासकार होने का दावा नहीं कर रहा हूँ ) तो न तो कुतुबुद्दीन ऐबक और न ही इल्तुतमिश को इतनी फुर्सत और शांति - सुकून मिला कि वो किसी ईमारत का निर्माण करवा सके।  ये गुलाम शासक आक्रमणकारी के रूप में भारत आये , और इनका समय लूट-पाट के बाद बचे समय में खुद को सुरक्षित करने में लगा।  ऐबक ने तो अजमेर (जिसका पुराना नाम अजयमेरु था ) में चौहान शासक (पृथ्वीराज के  पूर्वज ) विग्रहराज चतुर्थ के सरस्वती मंदिर को तोड़ कर अढ़ाई दिन मस्जिद बना दिया  और नाम दिया - अढ़ाई दिन का झोंपड़ा।  इसी तरह इसी क़ुतुब काम्प्लेक्स में कुब्बत-उल-इस्लाम मसजिद , अलाइ दरवाजा जैसे इस्लामिक नमूने भी प्राचीन भारतीय स्थापत्य नींव पर खड़े गए  . हालाँकि सच्चाई जो भी हो , सात बार बसी दिल्ली की ये मीनार आज भी महत्वपूर्ण पहचान है।  पास ही में हवाई अड्डा होने से इसके ऊपर से हवाई जहाज निकलते रहते है।
                                            क़ुतुब मीनार से फुर्सत होने के बाद कमल भाई ने आर्कियोलॉजिकल पार्क घूमने का प्रस्ताव रखा , जिसे ध्वनिमत से पारित किया गया।  पर हाय री ! किस्मत।, भरी दुपहरी में पसीना -पसीना होने के बाद भी हम इस पुरातात्विक उद्यान की दीवाल के चक्कर दिवाली के दिन काटते रहे , पर हमे प्रवेश द्वार न मिला।  अगर मिल जाता तो कुछ गड़े मुर्दे हम भी उखाड़ लेते।  जब थक गए तो फिर पहुंचे मेट्रो स्टेशन सीधे संसद में शिकायत करने के लिए।  पर दिवाली की छुट्टी थी , तो संसद बंद मिली।  तो मन मार कर संसद , नार्थ ब्लॉक , साउथ ब्लॉक के सामने फोटो खिचवाये।  सामने राष्ट्रपति भवन था, सोचा कोई बात नहीं , महामहिम प्रणब दा  से ही मिल आये , परन्तु वहां खड़े सुरक्षा कर्मियों ने तो मुख्य द्वार के पास ही नहीं जाने दिया।  हमने अपना आई डी कार्ड भी दिखाया पर ो भी कुछ काम न आया।  कुल मिला कर इतने द्वारों से हमें निराश ही लौटना पड़ा।  रास्ते में रेल म्यूजियम भी दिवाली की छुट्टी के कारण  बंद मिला।  अब सोचा एक गेट में और कोशिश कर ली जाये , तो पहुँच गए इंडिया गेट , ये गेट तो खुला मिला मगर इसमें घुसना मना था।  तो दूर से फोटो खिंचवाए। प्रथम  विश्वयुद्ध में मारे गए भारतीय सैनिको की स्मृति में इसका निर्माण किया गया था। इस गेट की दीवारों पर शहीद सैनिको के नाम लिखे हुए है।  बाद में श्रीमती इंदिरा गाँधी जी स्वतंत्रता पश्चात् के शहीदों की स्मृति में अमर जवान ज्योति का निर्माण किया। अमर शहीदों को मन ही मन नमन किया।  फिर याद आया कि मेरे बड़े साले ध्रुव का आज जन्मदिन है , इसलिये उसे कॉल करके कनॉट प्लेस बुलाया।  तब तक कमल भाई पैदल ही कनॉट प्लेस की ओर मुझे भी ले चले।  रास्ते में महाराष्ट्र सदन में बैठे हुए डॉ आंबेडकर जी की मूर्ति दिखाई दी , सामान्यतः हर जगह खड़े हुए , ऊँगली दिखते आंबेडकर जी ही दीखते है।  हमने फोटो लेने की कोशिश की , लेकिन बहुत अच्छी फोटो न ले सका।  रस्ते में  ही उग्रसेन की बावली भी देख आये  . हालाँकि कोई बहुत विशेष  बावली नहीं है, प्रेमी युगलों का मिलान स्थल ज्यादा है, लेकिन अभी हिंदी फिल्म पीके में दिखाई देने के कारण  चर्चित ज्यादा हुई।  कुछ देर बाद पदयात्रा करते कनॉट प्लेस पहुंचे। हमसे पहले ध्रुव पहुँच चूका था , लेकिन कुछ देर बाद हम पदयात्री भी पहुँच ये , वही कमल भाई ने क जगह प्रसिद्द वेज विरयानी खिलवाई।  अब ओला कैब बुक करके निकल पड़े दिल्ली की शान लाल किला को देखने के लिए ... 

लेकिन आज किस्मत पूरी तरह से रूठी हुई थी , दिवाली के दिन हमारे साथ ही ऐसा होना था।  जानने के लिए जल ही पढ़िए अगला भाग , तब तक फोटो तो देख ही लीजिये ---- 

जगमगाता नई दिल्ली रेलवे स्टेशन 

लिट्टी-चोखे का आनंद 

जहाँ चार यार मिले। 
दिल्ली की पहचान : क़ुतुब मीनार 
धातुकला का अद्भुत नमूना : लौह स्तम्भ 
अलाइ दरवाजा 

क़ुतुब मीनार परिसर में ही हिन्दू स्थापत्य कला के प्रमाण 

इसके बारे में आपका क्या विचार है ?  

ये स्पष्टतः हिन्दू स्थापत्य है।  


हवाई जहाज और क़ुतुब मीनार 
इंडिया गेट के साथ सेल्फी 
देश की सबसे बड़ी पंचायत : संसद 
कमल भाई के साथ 
नार्थ ब्लॉक : केंद्र सरकार का मंत्रालय 
इंडिया गेट की दीवाल पर लिखे शहीदों के नाम 
 महाराष्ट्र सदन के बाहर  बैठे हुए आंबेडकर जी की मूर्ति 
उग्रसेन की बावली 

orchha gatha

बेतवा की जुबानी : ओरछा की कहानी (भाग-1)

एक रात को मैं मध्य प्रदेश की गंगा कही जाने वाली पावन नदी बेतवा के तट पर ग्रेनाइट की चट्टानों पर बैठा हुआ. बेतवा की लहरों के एक तरफ महान ब...